तो बात कुछ और ही होती।

तो बात कुछ और ही होती।

एक कवि दम्पत्ति राधाकृष्ण मन्दिर जाते हैं।
दोनों अपने अपने इष्टों से मन में फरमाते हैं।

पति – हे कृष्ण मुझे जिन्दगी का आनन्द नहीं आ रहा है।
चुॅकि अपनी से सामंजस्य नहीं बन पा रहा है।
रात को जब जब मेरी रचना जोर पकडती है।
तब तब मेरी बीबी खुन्दस कर अकडती है।

कहती है बडबडा रहे हो क्या पागल हो रहे है।
अरे धीरे धीरे बोलो यहाॅ बच्चे सो रहे हैं।
काश उसकी मोटाई के बजाय जीभ कुछ भारी होती।
भले ही तुतलाती, मगर बात कुछ और ही होती।

पत्नी – है राधा मेरे पति सपने में सच ही बोलते हैं।
अपनी छिपाते हैं औरों की पोल खोलते हैं।
मेरे पडोसी जब अपनियों को सजा कर ले जाते है।
तब मेैं बाजार की कहू तो हीं हीं कर रह जाते है।

जमाने की तरह इनकी भी रंग मिजाजी होती।
तो कभी मैं सपने में भी धैर्य नही खोती।
काश मेरे पति के पिचके गाल और खोपड़ी के बाल।
भरे हुए होते तो बात कुछ और ही होती।

पति – है कन्हैया मेरी ये पत्नि यदि मोटी ही होती।
तो कम से कम टुनटुन जी सी तो होती।
आज वह निश्चित ही लाफटर चैनल पर होती।
तो आज बात कुछ और ही होती।

पत्नि – हे देवी यदि मेरे पति के पिचके गाल और,
खोपडी के बालों के बदले एक आॅख टेढी होती।
तो काले चशमें में राजसाही से लगते,
तो आज बात कुछ और ही होती।

पति – हे कृष्ण मेरी पत्नी लेखन पर झीं झीं न करती,
और उसकी निगाह पडौसन की साडी पर न पडती।
तो आज मेरी बो रचना अच्छे चैनल पर होती।
तो आज बात कुछ और ही होती।

पत्नि – हे किशोरी मेरे पति भले ही काले होते,
कलूटे होते भले ही नाक कुछ टेढी होती।
चाहे चैथे क्लास की होती, नौकरी सरकारी होती।
तो आज बात कुछ और ही होती।

पति – हे गोपाल मेरी पत्नि भले ही लगडी ही होती।
मगर करोड पति बाप की इकलोती बेटी होतीं
तो आज मेरे पास कार ए सी उडन छू होती।
होये होये तो बात कुछ और ही होती।

पत्नि – हे परमेश्वरी यदि मेरे पति को काला कलूटा,
होना ही होता तो होता पर विरासती राजनीति, होती
होये होये तो आज बात कुछ और ही होती।

राधा कृष्ण दोनों के भावों को समझ लेते हैं।
ओैर उनके विचारों को सनमार्ग बदल देते हैं।

पति – पत्नि दोनों एक साथ बोले
हे राधाकृष्ण हम खुश हैं हमें सब कुछ दिया है,
मगर हमारी भावनाऐं देश, समाज सेवा की होतीं
तो आज हमारा जीवन सफल हो गया होता।
हम मानवता में समा जाते, और बात कुछ और ही होती।

——-
प्रेमसिंह त्यागी
27/142, अशोक नगर आगरा 2
मो0 9837117485

Leave a Reply