वक्त की ताकत

वक्त की ताकत को पहचानो

वक्त की हिम्मत को जानो

जो ना चला वक्त के साथ

वक्त ने दी उसको मात

ऐसी है वक्त की बयार

वक्त ही बुलन्दी का सार I

 

जिसने की वक्त की कदर

वक्त ने किया उसको अमर

रावण ने छोडा हर काम कल पर

कुछ भी ना कर सका वो वक्त पर

खोई हुई हर चीज वापिस मिल जाए

बीता हुआ कल कभी ना आए

ऐसी है वक्त की बयार

वक्त ही बुलन्दी का सार I

 

वक्त से कदम ताल मिले

तो जीवन बने सिरमौर

चारो तरफ फैले प्रकाश

हटे संकट के बादल घनघोर

वक्त के घोडे पर चढकर

पकड ली जिसने लगाम

नतमस्तक हो सारा जहाँ

ये दुनिया करे उसे सलाम

ऐसी है वक्त की बयार

वक्त ही बुलन्दी का सार I

 

जो वक्त के महत्व को जाने

बने आम आदमी से खास

सफलता सिर चढकर बोले

चारो तरफ हो धन की बरसात

बुलन्दी छू जाए नाम उसका

झुक जाए ये धरती आकाश

ऐसी है वक्त की बयार

वक्त ही बुलन्दी का सार I

 

शुभ कर्म करना है सो कर डालो

मत करो किसी का इन्तजार

फिर वक्त मिले ना मिले

कल नही होगी ऐसी बहार

अपनी मेहनत के बल पर

वक्त को गुलाम बना लो

कदमो में हो चाँद तारे

एक नया इतिहास रच डालो

ऐसी है वक्त की बयार

वक्त ही बुलन्दी का सार I

 

 

 

 

Leave a Reply