तेरी याद में अब नींद मुझे कहाॅं आती हैं

तेरी याद में अब नींद मुझे कहाॅं आती हैं

पर ये कमबक्‍खत आॅंखें धक कर सों जाती हैं

मैं चाहता हूॅं बस तेरे साथ जीना

पर ये कमबक्‍खत सांसे तेरे आने से पहले से साथ छोड जाती हैं……………….