प्यासी आँखें

कहें क्या बातें आँखों की ।
चाल चलती हैं मनमानी ।
सदा पानी में डूबी रह ।
नहीं रख सकती हैं पानी ।।१।।

लगन है रोग या जलन है ।
किसी को कब यह बतलाया ।
जल भरा रहता है उनमें ।
पर उन्हें प्यासी ही पाया ।।२।।

Leave a Reply