खास बताया नहीं जाता

कुछ बात राज खास, याद दिलाया नहीं जाता ।
लासें टंगी दरक्त की़, दिखाया नहीं जाता ।
टुप-टुप रिसता लहू, कभी बताया नहीं जाता।
आजादी का खटमिठा दंश,दिखाया नहीं जाता।
हिंदू मुसलिम संग-संग, समझाया नहीं जाता ।
सिखों का दिया साथ, गाथा गाया नहीं जाता ।
इसाई का प्यारा प्यार, सुनाया नहीं जाता ।
दर डालर देख- देख, इंसान क्यों कुचला जाता ।
हिन्दू मुसलिम बाट वाट, का इंसान खरीदा जाता ?
मिश्रित सभ्यता सम्पन्न देश़ अमन चैन से रहता ।
अर्थ व्यवस्था उत्तम मन, आतंक वाद से लड़ता ।
फूल फलों से लदा दरक्त़, खग मृग का मन भरता ।
बलिदानी बलशाली सारे, जत्था-जत्था लड़ता ॥

Leave a Reply