चिड़िया घर की रेल चली

चिड़ियाघरकीरेलचली

रेल चली भाई रेल चली,   चिड़िया घर की रेल चली ,

आगे बैठे बन्दर मामा ,पीछे उनकी दुल्हन जी ,

तीतर, मोर, पपीहा बैठे, इनको जाना दिल्ली जी,

शेर शेरनी सिग्नल देंवें , भागो रेल ना छूटे जी,

हाथी -हथिनी चाय पिलायें, और गरम पकोड़े जी,

ऊंट- ऊंटनी भागते आये ,हाए,उनको जाना जयपुर जी,

भालू दादा टिकिट भूल गए, छूटी उनकी रेल जी…..

रेल चली भाई रेल चली ..*****

Leave a Reply