सृष्टि

शून्य, नि:शब्द !
शून्य, भावशून्य !
शून्य का नाद
नाद का परिवर्तन
ऊर्जा का उद्भव
ऊर्जा, प्रकाश !
शक्ति अवतरण |
भाव विभोर
शून्य का नाद |
शक्ति का केन्द्रण,
कुण्डलिनी जागरण !
हे देव !
प्रकटन
भूतत्वों का
सृष्टि का निर्माण |
भाव मोहक!
बंधन !
सृष्टि का पालन
और संवर्धन !

Leave a Reply