क्या क्या दिन देखें मैने…….

क्या क्या दिन देखें मैने, …..अब एतबार उठ गया।
किस पे करें भरोसा, …….सारा कारोबार लुट गया।।
अपनेपन का राग अलापने वाले, देख कर हालत मेरी-
तोड़ लिया नाता मुझसे, रिश्तों से एतबार टूट गया।।
– मनमोहन बाराकोटी “तमाचा लखनवी”

Leave a Reply