स्वयम हूँ स्वयम से दूर

मैं अपूर्ण हूँ,
फिर भी मैं केवल मैं ही हूँ |
स्वयम की स्वीकृति की साथ हूँ,
लेकिन अपर्याप्त हूँ|

मैं जानता हूँ कि
वो निर्विकार मुझमे समाहित है
लेकिन मैं भावबद्ध हूँ|

सृष्टि के सृजन की शक्ति के साथ
मैं अलौकिक का स्वामी हूँ|
फिर भी रक्त का हर कण
मुझे शुद्ध करना होता है |

मुझे काटना दिव्यता के लिए असंभव है
किसी और आवश्यकता नहीं है|
संचय की प्रवृत्ति के साथ,
मैं प्रचुर कैसे हूँ, विचार निःशब्द हैं|

मैं सभी आनंद का स्त्रोत हूँ,
हर विकार से हर क्षण परे हूँ|
लेकिन ब्रह्माण्ड की ऊर्जा को
सुख दुःख में परिवर्तित कर देता हूँ|

मैं कभी भी दर्पण में
अपने आप को नहीं देख पाता हूँ
स्वयम को पाना ही मोक्ष है
स्वयम से क्यों दूर चला जाता हूँ ?

 

—————————————— चंद्रेश कुमार छतलानी

 

One Response

  1. Roshni 22/01/2014

Leave a Reply