टुकड़ा कागज़ का

 

उठता-गिरता

उड़ता जाए
टुकड़ा कागज़ का

कभी पेट की चोटों को
आँखों में भर लाता
कभी अकेले में
भीतर की
टीसों को गाता

अंदर-अंदर
लुटता जाए
टुकड़ा कागज़ का

कभी फ़सादों-बहसों में
है शब्द-शब्द उलझा
दरके-दरके
शीशे में
चेहरा बाँचा-समझा

सिद्धजनों पर
हँसता जाए
टुकड़ा कागज़ का

कभी कोयले-सा धधका,
फिर राख बना, रोया
माटी में मिल गया
कि जैसे
माटी में सोया

चलता है हल
गुड़ता जाए
टुकड़ा कागज़ का

Leave a Reply