बेर

मर्कट-दल उत्पात मचा कर
अभी अभी गया हैं ।
बदरी का बेचारा बालक वृक्ष इसी बरस तो
फला था ।
हरे-हरे बेर टूंग-टूंग कर
फेंक गए वानर ।
तुम दुखी मत हों बदरी गाछ ।

जानता हूँ गौधूलि
लौटती बेर असंख्य शुकों का झुण्ड
विश्राम पाता था तुमपर जरा अबेर ।
पियराते बेरों के लिए ललचाता किन्तु अगली
ऋतु और भी फलोगे तुम ।
अरुण-पिंगल फूलों से झोल खा जाएँगी
डगालियाँ ।

निराश होना ठीक नहीं यों ।
बीत जाने दो शीत-काल, पड़ जाने दो तुषार ।
वसंत आते ही
फुनगियों फूल जाएँगे लजीले फूल हज़ार ।

Leave a Reply