झूला

 

झूला झूल रहे ,

नंद के कुमार सखी |
कदमो के डार सखी ना ||
झूला बना अलवेला,

झूलै नंद के गदेला |

हीरा मोती लगल,

रेशम की डोर सखी ||
कदमो के डार सखी ना ||
एक तो घेरे घटा काली |
दूजे बुन्द पङे प्यारी|
तीजे पुरूआ कै,

बहेले वयार सखी |
कदमो की डार सखी ना ||
झूल झूल रहे ,

नंद के कुमार सखी |
कदमो की डार सखी ना ||

Leave a Reply