देवी वंदना

देवी वंदना

तेरे द्वार खङा एक योगी |
लेकर खप्पर खङा वह भोगी ||
मंगल से बना वियोगी |
तेरे द्वार खङा एक योगी ||
तू शांत पङी क्यों भोली मैया |
तेरे द्वार आया है कऩ्हैया ?
भर दे अब तू झोली मैया |
तेरे द्वार खङा एक योगी ||
तू तो माँ ममता की जनऩी |
सभी की माँ तू ही भरणी ||
जन्म धन्य हो जाये तरणी |
तेरे द्वार खङा एक योगी ||
जोगी को भी भाये शरणी |
अन धन पुष्प चढाऊ जननी ||
मधुर गीत गुन गाऊ तरऩी |
तेरे द्वार खङा एक योगी ||

Leave a Reply