जिंदगी

कभी कभी सोचता हूँ क्या है जिंदगी
धुँवा है या आग है क्या है जिंदगी
जितना जीता हूँ उतना मरता हूँ लगता है एक जुवा है जिंदगी
जीत है या हार है क्या है जिंदगी

कभी कभी सोचता हूँ क्या है जिंदगी

कभी सोचता हूँ रास्ता है कभी सोचता हूँ मंजिल है जिंदगी
बेबसी है या जरुरत है क्या है जिंदगी
कभी लगे दिलरुबा कभी बेवफा है जिंदगी

कभी कभी सोचता हूँ क्या है जिंदगी

कभी सोचता हूँ हर ख़ुशी हर मज़ा है जिंदगी
जी लो जी भर कर इस को, हर वक़्त नशा है जिंदगी
जीना सीख लिया है मैंने भी,फिर भी हर पल सोचता हूँ क्या है जिंदगी

कभी कभी सोचता हूँ क्या है जिंदगी

बंजारा

Leave a Reply