मोरे साजन

एक बात तू आ जाये मोरे साजन,मोरे जलते नयन को नीर मिले
तड़प रही हूँ तेरे मिलन को मुझ को पीडन से छूट मिले
कौन बहाना तुझ को रिझाए काहे नहीं देत मुझ को बताये

एक बार तू आ जाये मोरे साजन मोरे जलते जिया को धीर मिले

गयी कहाँ,कहाँ मैं तुझ को ढूढन को मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा
तेरे निशां नहीं कहीं मिले मैं ढूँढू चौक चौबारे
का गलती हो गयी मुझ बैरण से काहे नहीं देत मुझ को बताये

एक बार तू आ जाये मोरे साजन मोरे जलते बदन को शीत मिले
एक बार तू आ जाये मोरे साजन मोरे जलते नयन को नीर मिले

 

banjara

Leave a Reply