पाठकजी

पाठकजी को हुआ शक,
अपनी ही पत्नी पर,
पत्नी हमारी है?
गम हुआ,

बी एच यू चले।।
जाने क्यौ हम पहुच गये,
मिलन हुआ हमारा ,

सपरिवार,
पाठकजी से॥
हमने कहा पाठकजी,

प्रणाम!
पाठकजी सहमे ,

बोले प्रणाम?
हमने कहा हमे ,

पता है,पाठकजी!
डी एन ए कराने,

आप आये है ?
पाठकजी ,झल्लाये ,

मन ही मन मुस्कराये,

का सारे बच्चे आप के हैं?
पाठकजी को होश आया,
मोह हुआ भंग,
पाठकजी आये ,

संग-संग ॥

Leave a Reply