मत दिखलाओ हाथ

 

मत दिखलाओ हाथ ज्योतिषी झूठा है

भाग्य रेखाओ के फेरा ने लूटा है

 

उसने कहा था तुम पर ना कोई संकट है

पर कल ही तो पैर ये मेरा टूटा है

 

गाँव में हुई थी हत्या और वह कैद हुआ

आजीवन था कैदी वह कल छूटा है

 

उसने कहा था सिर्फ एक बेटी होगी

पर कल ही तो हुआ आठवाँ बेटा है

 

उसने कहा था भाई वैज्ञानिक होगा

पर वह तो आज अपनी पार्टी का नेता है.

 

Leave a Reply