हे भारत !!

हे भारत देश, तुम जागो
पहचानों अपने शक्ति को
याद करो उन वीरों को
समझो अपने इतिहास को
सोचो इन परिस्थिति को
कुछ करने कि जरूरत को
कुछ बदलने कि चाहत को
करोड़ों मन के सपनों को
उन सपनों को बुनने को
हे भारत देश, तुम जागो !

                                        एकता के उन इशारों को 
                                        जाति-भेद के नकारों को 
                                        आँसुओं के उन टप टप को 
                                        गम में डुबे उन चेहरों को 
                                        सेना बल के तकलीफों को 
                                        आम जनता के लाचारी को

                                        थम कर बैठी आशाओं को
                                       उनपर जीतने की चाहत को
                                       समय के उस शीघ्र गति को
                                       उस गति के साथ चलने को
                                       हे भारत देश, तुम जागो ! !

2 Comments

  1. Sahayogi 31/10/2013
    • Nityanand Jha नित्यानन्द झा 14/11/2013

Leave a Reply