हो तो सही

हम पर कोई निसार हो तो सही I
मोहब्बत का इज़हार हो तो सही I

जां लुटाना चाहते हैं हम इश्क में,
मगर पहले प्यार हो तो सही I

मत भी ले लो बहुमत भी लो,
नेता इमानदार हो तो सही I

जाऊँगा हाल पड़ौसी का पूछने,
उसका भी बंटाधार हो तो सही I

सात पर्दों में कैद कर लिया,
उनका ज़रा दीदार हो तो सही I

दे, तो फिर लेकर दिखा दे,
एक बार उधार हो तो सही I

सब इमानदार हों तो बाँटू लड्डू,
मेरा सपना साकार हो तो सही I

तस्वीर बना दूँ बहते पानी में,
सामने निराकार हो तो सही I

गले लगा लूँ दुश्मन को भी
दोस्तों में शुमार हो तो सही I

खुशियाँ समेटना चाहता हूँ मैं,
गम का दरिया पार हो तो सही I

आंधियां उतावली हैं “चरन”
बागों में बहार हो तो सही I
_______________________________________

सर्वाधिकार सुरक्षित—-त्रुटी हेतु क्षमा प्रार्थी—-गुरचरन मेहता

2 Comments

  1. Gurcharan Mehta 'RAJAT' Gurcharan Mehta 25/10/2013

Leave a Reply