जीनेकी बहाना

जीनेकी बहाना
ये शाम
ये रात
यह अँधेरा
और मेरी तन्हाई
जीनेकी बहाना है
तेरी बेबफाई
ऊपर से गीला
फिर रुसवाई
और यादों का शिलशिला
जीनेकी बहाना है
गलियोंका चक्कर
घुङुरुवो की झंकार
गजलों की शाम
और भरी हुई जाम
जीनेकी बहाना है
तुझसे मिलने की चाहत
तारें गिनने की आदत
झूठी सपने सजाना
और आह भरी वह लम्बी साँसें
जीनेकी बहाना है
हरि पौडेल
नेदरल्याण्ड

Leave a Reply