देहाती औरत

देहाती औरत

 

सारे जगत के economists ने दी हो जिनको इतनी इज्ज़त ,

नवाज शरीफ कह बैठे उनको एक देहाती औरत,

सोचा होगा पाक मीडिया में मिलेगी तालियाँ इसकी बदौलत ,

सस्ते चुटकले छोड़ना बन गई है कुछ नेताओं की आदत ।

 

मोदी ने दिल्ली से लगाई जब हुंकार ,

डर के मारे कर गए सब के सब इंकार,

पर, देख कर भी, पाक नेता का ऐसा व्यवहार ,

क्यों चुप बैठी रही हमारी दिल्ली की सरकार।

 

मोदी ने न खोली होती यदि यह पोल ,

कर जाते दिल्ली वाले यह मामला गोल ,

सत्ता पक्ष खुद ही नहीं कर रहा है जिसका सम्मान ,

पाकिस्तानी तो करेंगे ही उसका अपमान।

 

अब  तो सभी लोग पूछने लगे हैं एक ही सवाल,

कब तक घिसटते रहोगे यूंही फटे हाल ,

अब तो छोड़ दो यह ज़लालत भरी chair,

अपने मान सम्मान की भी कर लो थोड़ी care॰

 

कभी तुमने देखी है देहाती औरत ,

दिन रात करती है कितनी मेहनत ,

नहीं सहन करती है वो भी अपना अपमान ,

इज्ज़त की खातिर दे देती है अपनी जान।

 

उसी से ले लो तुम कोई सबक,

नवाज शरीफ को करने दो बॅक बॅक,

उसने तो तुम्हें बस दिलाया याद ,

मैडम के आगे और मत करो फरियाद।

 

युवराज तो Jupiter की escape velocity से जाएंगे उड़,

तुम्हारा नाम मंत्रियों के घोटालों मे जब जाएगा जुड़,

चारों तरफ से घेरे है तुम्हें एक से एक धोखे बाज ,

शराफत से करने नहीं देंगे यह तुम्हें काम काज।

 

कबतक  मैडम कि खड़ाऊँ को संभाल कर रखोगे ,

कब तक खुद को बलि का बकरा बनाते रहोगे,

भीगी बिल्ली बन कर, सहते रहोगे यह अपमान,

अभी भी वक्त है , जगा लो अपना स्वाभिमान ।

 

तुमको तो बनाया गया है एक मोहरा ,

युवराज के सिर पर ही बंधेगा शाबाशी का सेहरा,

देखकर इस वर्ष गांधी जयंती पर तुम सब का चेहरा,

पता चल गया दुनिया को ,मन मुटाव है बहुत गहरा।

 

देहाती औरत तो है एक मेहनतकश स्त्री कि पहचान,

नवाज शरीफ क्या जाने , वो तो है देहाती जिंदगी से अंजान ,

करती है वो दिन भर खेती तथा पशुपालन ,

गंगा कि तरह पवित्र होता है उसका निर्मल मन ।

 

कभी तुमने देखी है देहाती औरत ,

दिन रात करती है कितनी मेहनत ,

नहीं सहन करती है वो भी अपना अपमान ,

इज्ज़त की खातिर दे देती है अपनी जान।।

 

 

 

 

One Response

  1. nitesh singh nitesh singh 16/10/2013

Leave a Reply