पंचक नक्षत्र

अर्ध धनिष्ठा शतभिषा द्वै भाद्रपद प्रमान |
रेवति साढ़े चार की पंचक संज्ञा मान ||

दक्षिण दिशि की यात्रा नहिं करना शवदाह |
छत चारपाई काष्ठ का रोको कार्य प्रवाह ||

Leave a Reply