गंडादि मूल नक्षत्र

मघा अश्वनी रेवती आश्लेखा ज्येष्ठा मूल |
षड नक्षत्र है मूल के जन्मत दे अति शूल ||

Leave a Reply