सपनें भारत के

–: सपनें भारत के :–

हिन्दुस्थानी जनता का साकार होगा सपना ,
विकसित समृध्द जब भारत होगा अपना ।
गौरवशाली अतीत देश का है अपना ,
भरत-भारती से भारत बना अपना ।
खत्म होगा विकसित राष्ट्र का सपना ,
अमेरिका भाँति जब राष्ट्र होगा अपना ।
शिक्षा में अग्रणी देश होगा अपना ,
सपनों का भारत साकार होगा अपना ॥ 1.

कश्मीर है भारत का राज्य अपना ,
लहरायेंगें तिरंगा कश्मीर में अपना ।
बजेगा डंका फिर विश्व में अपना ,
एक दिन विश्वगुरु देश होगा अपना ।
रामराज्य का साकार होगा सपना ,
सुराज शासन जब दिल्ली होगा अपना ।
विज्ञान में प्रथम देश होगा अपना ,
सपनों का भारत साकार होगा अपना ॥ 2.

देश के धन पर अधिकार होगा अपना ,
विदेश से कालाधन वापस होगा अपना ।
दिल्ली में भ्रष्ट शासन ना होगा अपना ,
भ्रष्टाचार मुक्त जब देश होगा अपना ।
हर गाँव-शहर जब कुशल होगा अपना ,
हर भारतीय का तब पुरा होगा सपना ।
शक्ति से महाशक्ति मुल्क होगा अपना ,
सपनों का भारत साकार होगा अपना ॥ 3.

सुखी व छोटा जब परिवार होगा अपना ,
मधुर पवित्र तब रिश्ता होगा अपना ।
हर भारतीय का एक ही सपना ,
अयोध्या में होगा राम मन्दिर अपना ।
हम भारतीय, भारत देश है अपना ,
भेदभाव रहित हिन्दुस्थान है अपना ।
विश्व में सिरमोर मुल्क होगा अपना ,
सपनों का भारत साकार होगा अपना ॥ 4.

लूटा है कांग्रेस ने देश को अपना ,
उसका था घोटाला एक ही सपना ।
अटल जी जैसा पी. एम. होगा अपना ,
मोदी भारत का पी. एम. होगा अपना ।
लहरायेंगे परचम जब विश्व में अपना ,
गूंजेगा वन्दे मातरम तब विश्व में अपना ।
“नरेश पटेल” की कविता का सपना ,
सपनों का भारत साकार होगा अपना ॥ 5.

——- कवि नरेश पटेल
जुङे : www.facebook.com/nareshpatel80

Leave a Reply