दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिन्दुस्तान हमारा है – किस्मत (1943)

आज हिमालय की चोटी से फ़िर हम ने ललकारा है
दूर हटो ऐ  दूर हटो ऐ
दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिन्दुस्तान हमारा है
दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिन्दुस्तान हमारा है

जहां हमारा ताज.महल है और कुतब.मीनारा है
जहां हमारे मंदिर मस्जिद सिखों का गुरुद्वारा है
इस धरती पर क़दम बढ़ाना अत्याचार तुम्हारा है
दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिन्दुस्तान हमारा है

शुरू हुआ है जंग तुम्हारा जाग उठो हिन्दुस्तानी
तुम न किसी के आगे झुकना जर्मन हो या जापानी
आज सभी के लिए हमारा यही कौमी नारा है
दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिन्दुस्तान हमारा है

आज हिमालय की चोटी से फ़िर हम ने ललकारा है
दूर हटो ऐ  दूर हटो ऐ
दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिन्दुस्तान हमारा है
दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिन्दुस्तान हमारा है

Leave a Reply