माँ की ममता

कितनी कोमल कितनी प्यारी , कितनी मीठी माँ की ममता

दिल से दिल को छूने वाली , सबसे प्यारी माँ की ममता

माँ का दिल है कोरा कागज जिसमे रंग भरती है ममता

अंतर्मन में बहने वाली , पतित पावनी माँ की ममता

कठिन भंवर की लहरों में भी , सुख का अंचल माँ की ममता

सुख दुःख में सम रहने  वाली ,अतुल्निय  है माँ की ममता

ना दिखती  ना सुनती है ये , अपने नियमो पर चलती है ये

फिर भी कभी गलत ना होती , अकल्पनीय है माँ की ममता

नीले आकाश से भी विस्तृत , धरती से भी अधिक विशाल

आशीर्वचन नित देने वाली , ऐसी अद्भुत है माँ की ममता

Leave a Reply