मेरे दर्द को वो

मेरे दर्द को वो
समझ न सकी
मेरे अरमानो को वो समझ न सकी

भूला दिया उसने मुझे मगर

मेरी यादो को वह भूला न सकी

कवि
अजय कुमार बनास्‍या

Leave a Reply