तेरी आँखें

तेरी आँखें की जैसे समंदर कोई 
इस समंदर मे मै डूबने जब लगा 
तूने पलके झुक कर बचाया मुझे

 

अजय डबराल

Leave a Reply