श्रीपति आवत

हौले -हौले श्रीपति आवत!
अरबराइ मन म`गल तब पावत !!
सारंग पानि को गीत सुनावत !
कमल नयन सो गारी गावत!!
श्रीपति स्वामी गुन गान सुनावत |
रस रसिक पतित पावन को भावत |
मूरख रहि-रहि नाच नचावत |
ज्ञानी सुधि विधि वेद पढ़ावत ||
सावन मा संत-चिंतन धावन |
विषय विकार निसाचर छाडत ||

One Response

  1. Sukhmangal Singh sukhmangal 07/06/2015

Leave a Reply