श्रम आरती

जयतिजयश्रमकीजयजयहो
जयतिजयश्रमकीजयजयहो

भूखाकोईरहेजगमें, प्यासाकोईसोए।
छतनसीबहरजनकोहोवे, व्याधिकोईढोए।
खुशियोंकासंसारबसेहरप्राणीनिर्भयहो
जयतिजयश्रमकीजयजयहो

जीनेकेअवसरसमानहों, पीड़ितरहेकोई।
माँगपूर्तिअनुपातसहीहो, काटेफसलजोबोई।
सत्ताजिसकेहाथमेंहोवहकभीनिर्दयहो।
जयतिजयश्रमकीजयजयहो

जोश्रमकरेवहीफलपाए, यहनियमनअपनाएँ।
श्रमसेशून्यसमस्याओंके, बादलछितराजाएँ।
संकल्पोंकोपूराकरनेकादृढ़निश्चयहो
जयतिजयश्रमकीजयजयहो

C.M.UPADHAYE

 

 

 

Leave a Reply