एक इत्तफाक है

हम मिले बिछड़े फिर मिले
एक इत्तफाक है
आँशु बहे बैठे है खिले खिले
एक इत्तफाक है
रुक गया वो शिल शीले
एक इत्तफाक है
दिल टुटा न शिकवे गीले
एक इत्तफाक है
बादल फटी आकाश निले
एक इत्तफाक है
आँखे बर्षे न होठ हिले
एक इत्तफाक है
शर्द हुइ और हवा चले
एक इत्तफाक है
बैठे है फिर भी गुमसुम भले
एक इत्तफाक है
हम मिले बिछड़े फिर मिले
एक इत्तफाक है
आँशु बहे बैठे है खिले खिले
एक इत्तफाक है
हरि पौडेल

Leave a Reply