आत्मबोध

यह सब कुछ मेरी आंखों के सामने हुआ!

आसमान टूटा,
उस पर टंके हुये
ख्वाबों के सलमे-सितारे
बिखरे.
देखते-देखते दूब के दलों का रंग
पीला पड़ गया
फूलों का गुच्छा सूख कर खरखराया.

और ,यह सब कुछ मैं ही था
यह मैं
बहुत देर बाद जान पाया.

Leave a Reply