राम के सहयोगी — वन के प्राणी

 

 

राम  के  सहयोगी — वन  के  प्राणी               

दशरथ पुत्र  राम  पत्नी  सीता  और  भाई लक्ष्मण  के  साथ ,

 छोड़   अयोध्या चल पड़े वनवास,  

चौदह बरस करना  होगा  उनको  जंगल में ही वास  .१

 गोदावरी तट पर कुटिया बनाई,

राम लाते फल  सीता  मन  को है  भाई ,

रक्षा करते लक्ष्मण रातों  को  भी नींद  न आयी -2.

बीते  कई  सावन  वर्षा ऋतु मन  भाई ,

मिले  ऋषि  मुनि  और  उनकी  बातें  सुहाई ,

पशु  विचरते ,पक्षी  चहचहाते  कोई  दुविधा  ना  आयी -3

 शूपर्णखा ने  आ कर  लक्ष्मण  से  अपनी  नाक  कटवाई ,

रोती गयी  रावण  पास  जा   कर  दी  दुहाई  ,

रावण  को  सीता- हरण  की  बात  सुझाई .4

मायावी  रावण  ने मारीच  को  स्वर्ण  मृग  बनाया ,

सीता  के सामने  दौड़ा  कर  उसका  मन  ललचाया ,

राम  को  दूर  तक  उसके  पीछे  भगाया .5

राम  ने  पीछा  किया  और  तीर  चलाया ,

मारीच  को  स्वर्ग  पहुंचाया ,

रावण  ने  किया  छल और  सीता  को  ज़बरन  विमान  में  बिठाया . 6 

सीता  का  सुन  आर्तनाद  वृद्ध  जटायु  गिद्ध आगे  आया ,

रावण  ने  काटी उसकी  भुजा  और  नीचे  गिराया ,

छोड़  उसको  वहीँ  रावण  ने अपना  रास्ता  अपनाया .7

राम लक्ष्मण  कुटिया में  लौटे  सीता  को  वहां  ना  पाया ,

दोनों  भाईओं  का  मन  घबराया,

कैसे  लौटें  अयोध्या  आँखों  में  पानी   भर  आया .8

यहाँ  वहां  फिरते  राम लक्ष्मण  व्याकुल  सीता वियोग  में ,

देखा  वीर  जटायु  पड़ा  था  लहू – लुहान  में,

राम  ने  उठाया  उसे अपनी  गोद  में  .9

वीर  वृद्ध  जटायु  ने  बताई  सारी  बात ,

सीता  कैसे  कर  रही  थी  विलाप ,

वह  लड़ता  रहा  जब  तक थी  उसमें  आस .10

सीता  को  छुड़ा न  सका  यही  था  उसका  अरमान ,

धीरे -धीरे  जटायु  ने  त्यागे  अपने  प्राण ,

राम ने किया उसका  संस्कार  और  किया  प्रणाम .11

आगे  बढ़ते  राम  लक्ष्मण मुनियों  के वेश  में ,

पहुंचे ॠष्यमूक पर्वत  वानररीछों  के राजा  सुग्रीव  के देश  में ,

वहां वह  रहता  था  बड़े  भाई  वाली  के  भय में .12

गुणी,विद्यावान ,चतुर ,और  बलवान ,

कपिराज, यूथपति साथी  था  उसका हनुमान,

राम   लक्ष्मण  से  मित्रता  करवाई और  दिया  सम्मान .13

सुग्रीव  ने राम को अपना  दुःख  बताया ,

 राम  ने  भी संधि  कर  हाथ  आगे बढाया,

राम ने वाली को  मार  गिराया . 14

सुग्रीव को  किष्किन्धा का  भूप  बनाया ,

वालिपुत्र  अंगद  को  युवराज  ठहराया ,

सुग्रीव ने वानर ,भालुओं  को  सीता  खोज  में  लगाया .15

सब  चल पड़े इधर -उधर  लगे  भटकने ,

एक  शिला  पर बैठ  कर  लगे  सोचने ,

किस  दिशा  में कहाँ  जाएँ  लगे  रोने  .16

जटायु का भाई  दूरदर्शी  सम्पाती  आया ,

लाचार  सीता  का  पता  बताया ,

लंका  के  राजा रावण  का  नाम  लगाया .17

लंका  जायो  सागर  के  उस  पार ,

सोने  की  नगरी  बड़े – बड़े  हैं  द्वार ,

काले- काले  राक्षस  हैं  उसके  द्वारपाल .18

सह  ना  सका  भाई जटायु का  परलोक  वास,       

 सब को  राह  दिखा  कर  त्याग  दिए  अपने श्वास ,

जी न सके अब वह कैसे करें वास .19

कैसे  जाएँ  सागर  पार ,

करने  लगे  सब  यही  विचार ,

कौन  कैसे  जा सके  सागर के उस पार .20

याद  दिलाते  हनुमान  को  रीछ  जाम्बवान ,

वह  अति  गुणी ,विद्वान्,चतुर  और बलवान ,

हनुमान  ने  किया  जाम्बवान  को  प्रणाम .21

उड़  चले  आकाश  में  लेकर  राम का नाम ,

उत्साह्वान  नहीं  घबराता  ना  करता  विश्राम ,

सागर  उतर  लंका  पहुंचना था  उसका  काम .22

लंका  पहुँच  रावण को अपना  बल  दिखलाया ,

सीता  सुधि  लाए  सब का   मन  हर्षाया ,

हनुमान को  सब  वन  प्राणियों ने  गले  लगाया .23

सागर  पार  बिना  लंका  जाना  कठिन  है ,  

रावण  को  जीते  बिना  सीता  पाना  कठिन  है , 

लंका  जाना   है ज़रूरी  पुल  निर्माण  कठिन  है .24

सुग्रीव  ने  सेतु – बंधन  में   चतुर  नल -नील  को  बुलाया ,

सेतु  बंधन  हो  कैसे  प्रश्न  उठाया ,

राम  ने  भी  सागर  को  डराया .25

सभी  वन  के  प्राणी  बन  गए  राम  के  सहयोगी ,

जहां – तहां   दौड़ पड़े  राम  के  सहयोगी ,

वानर  समूह , वन  प्राणी  हो  गए  राम  के  सहयोगी .26

  छोटे बड़े   प्राणी  लाते  जाते   पत्थर  विशाल ,  

फेंकते  जाते  सागर में बना  कर  एक  कतार ,

लिखते   राम  गाते  राम  जाना  है  उस  पार .27

सब  को  भगाते  इधर – उधर  वीर   हनुमान ,

रुकते  नहीं  उछलते   कूदते  कर  रहे  थे  काम ,

हो  गया  आसान  पुल का  निर्माण .28

एक  गिलहरी  भी   बन  गयी  राम  की  सहयोगी ,

 रेत के  दानों  को  लिपटा  कर आती – जाती ,

मानो  सागर  को  है  भरती जाती .  29

दृढ शिलाएं रख  दीं  कभी  न   होंवे  भंग ,

 जुड़   गए  शिला  पत्थर  सब  हो  गए  दंग,  ,

राम सागर को  लाँघ  उतरे  लंका  वन  प्राणियों   के  संग .30

वीर दल  ने  धूम  मचाई ,

अति  निर्भीक ,सूरमा  अंगद  ने की  सागर  उतराई ,

पहुंचा  रावण  दरबार   अपनी   दिखाई  चतुराई    .31

राम  का  सन्देश  सुनाया , पर  खाली  हाथ  लौट  आया ,

सुग्रीव ने सेना का सञ्चालनकरवाया .32

हनुमान  ने  संभाली   पश्चिम   दिशा  ,

अंगद   और  नील   ने संभाली दक्षिण  और  पूर्व  दिशा ,

लक्ष्मण ने संभाली उत्तर   दिशा.33

सुग्रीव  और  वानर – समूह  राम  के  चारों   ओर ,

राक्षसों  का   दिखता  न  कोई  छोर  ,

सब  कर  रहें  गर्जना  और  शोर .34

दोनों  तरफ  थे  वीर योध्दा और  सेना  अति  भारी ,

छल बल  से  युद्ध  करते  डरते  वन  विहारी ,

कोई  न  जीता  हारा  बाज़ी किसी  ने  न हारी .35

अंगद  ने  मेघनाद  को  हराया ,

फिर  भी  युद्ध  करता  रहा  दोबारा ,

हनुमान  ने  राक्षसों  को  पछाड़ा  और  मारा .36

लक्ष्मण हुए  मूर्छित   कौन  करे  उपचार ,

राम  हुए  चिंतित  खो  न  भाई  का  प्यार जाए , 

कैसे  लौटें   अयोध्या  करते  थे  विचार .37

हनुमान  ने  छलांग  लगाई ,

पर्वत  सहित  संजीवनी बूटी  पाई ,

 लक्ष्मण को  स्वस्थ  देख  कर  खुशी  की  लहर  छाई.38

 राम  रावण युद्ध  हुआ ,

 कितने  वन  प्राणी  ज़ख़्मी  हुए  कितनो  का  हनन  हुआ ,

अनगिनत  राक्षसों  का भी मरण  हुआ .39

रावण  छल  करता  रहा ,

वन  प्राणियों  को  भरमाता  रहा ,

सीता  को  डराता  रहा .40 

राम ने  किया  रावण का  संहार,

अभिमानी  फिर  भी  न माना  अपनी  हार ,

सीता  को  छुडवा  कर  वन  प्राणियों  ने  पाया  उस  का  दीदार .41

हुआ युद्ध समाप्त  राम  विजयी  हुए ,

बजा  विजय  का  बाजा  जय  घोष  हुए ,

सीतापति  के  गुण – गान  हुए .42

 वन  प्राणी  उछल  कूद  कर  हर्ष  मनाते ,

जहां  देखो  आनंद  ही  आनंद  बरसाते ,

मोद मनाते  गाते  जाते .43

राम  अकेले  कुछ  न  कर  पाते ,

 वन  के  प्राणी अगर  उसके  साथ  न  होते ,

 जंगल में  ही  भटकते   रह  जाते .44

सीता  को  कभी  छुड़वा न   पाते ,

अयोध्या  कभी  लौट  न  पाते ,

उनके  नामो -निशाँ  ही  मिट  जाते .45

राम  ने  दिया  सब  को  सम्मान ,

ले  कर  आये  सब  को  अयोध्या  किया  कुछ  दिन  विश्राम ,

हनुमान  ने  पाया  सीता  से भी  सम्मान .46

हनुमान  करते  सेवा  रहे  राम   चरणों  के  पास ,

अपना  ह्रदय  चीर  कर  दिखा  दिया  राम का  वास ,

वन  प्राणी   भी  सहयोगी  बनते   रखें  उन  पर  सदैव  विश्वास .47

=====================================================================

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply