शेर

वो दिल बहलाने को फेंकते हैं समन्दर में कंकड़
नहीं सोचते हजारों लहरें यूँ ही खत्म हो जायेगी

उनके मुस्कराने का अंदाज कैसे बयाँ करे?
जानो इतना कि- कयामत इसी को कहते हैं

आज फिर से दिल में दर्द क्यों उठा है
क्या चाँद दूर बादलों में खिलखिलाया है ?

लोग समझते हैं निहायत बेकुसूर उनको
नहीं समझना चाहते कि- कुसूर किसका है ?

जब से देखे हैं उनके दिलकश अंदाज
अपने सीने से दिल को गायब पाते हैं

Leave a Reply