shayri

वो केैनसा दाग हेै जो उससे
सीने मे ंछिपाया न गया
दिखाता रहा जमाने को मगर
राज बताया न गया।
वंदना मोदी गोयल

Leave a Reply