ऐ मेरी कविता !

ऐ मेरी कविता !
मैं सोचता हूँ लिख डालूं ,
तुम पर भी एक कविता !

रच डालूं
अपने बिखरे कल्पनाओं को
रंग डालूं
स्वप्निल इन्द्र धनुषी रंगों से,
तेरी चुनरी !

बिठाऊँ शब्दों की डोली में
और उतर लाऊँ
इस धरा पर !

किन्तु मन डरता है
ह्रदय सिहर जाता है ,
तुम्हे अपने घर लाते हुए !

की कहीं तुम टूट न जाओ
उन सपनों की तरह
तो बिखर गए टूट कर !

………………………मथुरा प्रसाद वर्मा  प्रसाद

Leave a Reply