स्वप्न

वह मेरा
हर स्वप्न चुरा लेता था
कि मैं
गहरी नींद में सो सकूँ ।

जागने पर
उसने
एक-एक कर
लौटाए थे
मेरे स्वप्न
‘शिलातल’ की मुग्धता में ।

Leave a Reply