घायल को अस्पताल ले जाने वाले

राह में किसी घायल से कतरा के निकल जाने वाले ,
अब नहीं मिलते उन्हें अस्पताल पहुँचाने वाले .

उन्होंने गरीबी की एक रेखा खींच रखी है ,
जिसमे नहीं आते फुटपाथ पे सोने वाले .

दरअसल यह गूंगों -बहरों की बस्ती है ,
घात में रहते है दरिंदें अस्मत लूटने वाले ,

कोंख से बच निकली हो तो खुश मत रहो मेरी बच्ची ,
बहुतेरे बचे है अभी दहेज़ में जलाने वाले .

खुदगर्जियों ने हमे इस कदर डुबोया है कि,
कोई अहसास नहीं है उबर कर आने वाले .

One Response

  1. यशोदा अग्रवाल 29/08/2013

Leave a Reply