मेरे देश की तरह

स्वतन्त्र हुए
देश की तरह था
वह-
उसका माथा
उसकी हँसी-

मेरे देश की तरह
दिव्य,
अविभाज्य
और
सम्पूर्ण ।

Leave a Reply