मन रुक गया वहाँ (कविता)

मन
रुक गया वहाँ
जहाँ वह था ।

नित्य और निरन्तर
गतिशील
लय की अनन्तता में

मन
रुक गया वहाँ
उसके अन्दर

जहाँ घर था ।

Leave a Reply