अगर मन्थरा न होती

अगर  मन्थरा   होती

अगर  मन्थरा  न  होती ,तो  कैकेयी  दो  वर  न  मांगती ,

अगर  कैकेयी  दो  वर  न  मांगती , तो  राम  वन  न  जाते ,

अगर  राम  वन  न  जाते , तो  दशरथ  न  मरते ,

अगर  दशरथ न मरते , तो  तीन  रानियाँ  विधवा  न होती .

अगर  राम  वन  न  जाते ,तो  अयोध्या  में  शोक  न  छाया रहता ,

अगर  राम  वन  न  जाते , तो  उर्मिला  को  अकेले  न  रहना  पड़ता ,

अगर  राम  वन  न  जाते, तो  भरत को  कुटिया  में  न  रहना   पड़ता ,

अगर  राम  वन  न  जाते , तो  सिंहासन  पर  पादुका  न  होती .

 अगर  राम  वन  न  जाते, तो  शूर्पनखा   के  नाक-कान  न  कटते ,

अगर शूर्पनखा  के  नाक -कान  न  कटते, तो  मारीच  न  मरता ,

अगर    मारीच  न  मरता ,  तो  सीता  हरण  न  होता ,

अगर   सीता  हरण  न  होता , तो   लक्ष्मण  मूर्छित  न   होता .

अगर  लक्ष्मण   मूर्छित न   होता , तो  हनुमान  पहाड़  उठा  कर  न  लाते ,

अगर  हनुमान   पहाड़   उठा  कर  न  लाते, तो  लक्ष्मण  होश  में  न  आते ,                       

अगर  लक्ष्मण   होश  में  न  आते , तो  कुम्भकरण   सोये न    रहते  ,

अगर   कुम्भकरण   सोये न   रहते  , तो   सोने  की  लंका  तबाह  न   होती  .

अगर  सोने  की  लंका  तबाह  न  होती , तो   लाखों योद्धा न  मरते ,

अगर  लाखों  योद्धा  न  मरते , तो  रावण  का  वध  न  होता ,

अगर  रावण  का  वध  न  होता, तो  कोई  कलियुग  में  राम  को  न  जानता,

अगर  कोई  कलियुग  में  राम  को  न  जानता, तो  तुलसीदास  रामायण  न  लिखते .

अगर  तुलसीदास  रामायण  न  लिखते , तो   रामलीला   कोई  न  खेलता ,

अगर रामलीला   कोई  न  खेलता, तो  कितने  चल – चित्र   न  बनते ,

अगर  चल – चित्र   न  बनते , तो   कोई  राम  का   नाटक  न  करता ,

अगर  कोई  राम  का   नाटक  न  करता , तो  भजन ,कीर्तन  न  होते .

 अगर  यह  सब  वाल्मीकि न  लिखते , तो  राम  पैदा  न  होते  .

अगर  राम  पैदा  न   होते  , तो  इतने  सारे प्रश्न  न  होते .

अगर  तुलसीदास  हनुमान  चालीसा  न  लिखते, तो  कोई  हनुमान  को  याद  न  करता ,

अगर  मन्थरा न  होती, तो  सब  मौज – मस्ती  में  रहते |

 

 

 

 

 

 

4 Comments

  1. Muskaan 25/08/2013
  2. kiranwaljee 26/08/2013
    • Santosh M Gulati 10/09/2013
  3. Vimal Kumar Shukla Vimal Kumar Shukla 04/10/2014

Leave a Reply