उसकी इजाज़त लेनी पड़ती है

मेघा को भी बरसने से पहले,
और गगन को गरजने से पहले,
उसकी इजाज़त लेनी पड़ती है I
मौसम को बदलने से पहले,
और सूरज को ढलने से पहले,
उसकी इजाज़त लेनी पड़ती है I
क्या हुआ जो ले ली हमने इजाज़त :
प्यार करने की उस खुदा से :
पत्तों को हिलने से पहले,
और फूलों को खिलने से पहले,
उसकी इजाज़त लेनी पड़ती है II

साँसों को थमने से पहले,
और दिल को धड़कने से पहले,
उसकी इजाज़त लेनी पड़ती है I
शरीर को मरने से पहले,
आत्मा को निकलने से पहले,
उसकी इजाज़त लेनी पड़ती है I
क्या हुआ जो ले ली हमने इजाज़त :
दिलों को जोड़ने की उस खुदा से :
परिंदों को भी उड़ने से पहले,
और दिलों को जुड़ने से पहले,
उसकी इजाज़त लेनी पड़ती है II

दरिया को सागर में मिलने से पहले,
ज्वालामुखी को पिघलने से पहले,
उसकी इजाज़त लेनी पड़ती है I
पवन को भी चलने से पहले,
और अग्नि को जलने से पहले,
उसकी इजाज़त लेनी पड़ती है I
क्या हुआ जो ले ली हमने इजाज़त :
दिल में किसी के बसने की खुदा से :
सुबह को भी आने से पहले,
और रात को जाने से पहले,
उसकी इजाज़त लेनी पड़ती है II
_________________________________

गुरचरन मेह्ता

One Response

  1. Muskaan 25/08/2013

Leave a Reply