व्यापारी

उजाड़ कर

आँगन

घर

बस्ती

गाँव

बसा दिए

शहर

सजा दी

दुकानें

बन बैठे

व्यापारी ।

 

Leave a Reply