मज़दूर

गैरों की खुशहाली को

अपनी मेहनत से

सींच कर

मुट्ठी रेत सा

रेंग रहा है – लाचार

अपने घरोंदे की ओर ।

 

Leave a Reply