मसीहा

बेचने

मर्हम

उगाता

दर्द की फ़सल

सींचता स्वार्थ

सांत्वना सेंध से

लूटता संवेदना

भरता घर

कहलाता – मसीहा ।

 

 

Leave a Reply