बूढा पेड़

आज

बिलख पड़ा

बूढा पेड़

मुझ कवि का

लेखन देख

बोला-

और पुतेंगे कागज़

और कटेंगे पेड़ ।

 

Leave a Reply