दिशा तट

अबाध उद्दण्ड

जल-बल प्रचण्ड

जब-जब उतरा

प्लावन पर,

धरा ने

कट कर

बँट कर

साध दिया वेग

दिशा तटों से

और

बना दिया

सहज-सरल प्रवाह ।

 

Leave a Reply