क्यों हो गया, कैसे हो गया

धरा तो मिला दी, चाँद से मंगल से,

पर, इंसां खुद से, खुदाई से अन्जान हो गया ।

क्यों हो गया, कैसे हो गया॥

 

भौतिकवादी प्रतियोगी होड़ में, प्रवंचनाओं में,

बैशाखी विक्रेता, पारस प्रमाण हो गया ।

क्यों हो गया, कैसे हो गया ।

 

हुआ जो तुषारापात सपनों पर, अरमानों पर,

तो आशियाना तिनकों का मोहताज़ हो गया ।

क्यों हो गया, कैसे हो गया॥

 

जिसने कत्ल किया मानवता का, भावनाओं का,

मानुष वही जनता का सरताज हो गया ।

क्यों हो गया, कैसे हो गया ।

 

लगा लोह पैबन्द, कागज़ की नाव पर, बेपतवार,

फ़रेबी मल्लाह से भव तरने का करार हो गया ।

क्यों हो गया, कैसे हो गया ।

 

अश्लील लफ़्फ़ाजी, चुटकले-चाटुकारी मिलकर

अब मंच और श्रोताओं का संस्कार हो गया

क्यों हो गया, कैसे हो गया ।

 

 

One Response

  1. aditya sarang 02/10/2015

Leave a Reply