सयानों का स्वार्थ

सयानों के स्वार्थ

दंभ और दिखावे का

मिथ्या प्रयास

अमूर्त की घड़ता मूरत

उतारता आरती

लगाता ताले ।

 

Leave a Reply