उत्सव

तड़पता तट

भागती मीन

बिसुरती नदी

पसीने-पसीने पानी

बता रहा-

फ़िर उत्सव

विसर्जन ?

विष-अर्जन ?

Leave a Reply